मुर्गी पहले आई या अण्डा आखिर सुलझ गई गुत्थी | बचपन से परेशान था मैं ….

पहले मुर्गी आई या अण्डा?

बच्चे आपस में कभी मजे के लिए तो कभी पहेली के रूप में एक-दूसरे से यह प्रश्न पूछते रहते हैं | वास्तव में यह एक दर्शन है | यदि बिना पूरा जाने यह प्रश्न उपस्थित हो जाए तो आदमी चक्कर खा जाता है | यह उक्ति अपने आप में ‘समय’ का पूर्वी विज्ञान समाये हुए है, आधुनिक युग में पश्चमी सोच एक-रेखीय (Linear)  समय (काल ) की कल्पना से जोड़-घटाव करती है |  परन्तु वास्तव में समय चक्रीय space-map-hd-wallpaper_1.jpgपथ  से गति करता है | जैसे घडी की सुई कभी 12 पर तो कभी 6 पर, परन्तु बार-बार दोनों पर आती है, यहाँ कोई पूछे  की घडी में सबसे पहले कितने बजे थे ? समय शुरू कहाँ से हुआ ? कहीं से नहीं !

बस समय एक-रेखीय है ही नहीं अर्थात उसका न आदि है न अंत है  (ब्रह्माण्ड के सापेक्ष) | पहले सतयुग आया ऐसा नहीं  कहा जा सकता हाँ त्रेता के पहले जरुर सतयुग आया | परन्तु कहीं कलियुग रहा होगा तभी तो सतयुग आया होगा … वर्ना पता कैसे चलेगा की सतयुग आया ? भारतीय दर्शन में {सेक्युलरों के पेट में दर्द न हो तो हिन्दू (including jainism, buddhism) दर्शनों में } कार्य-कारण सिद्धान्त ला

गू होता है | हर चीज एक बार कारण बनती है तो एक बार कार्य | universe-1024x675जैसे “बीज” कारण  है जिसका कार्य वृक्ष  है और वृक्ष कारण है “बीज” का | कार्य-कारण सिद्धांत से ही दुनिया चलती है | कोई भी घटना यूँ ही नहीं घटती,  ‘भूत’ में उसका 
कारण विद्यमान होता है और वही घटना भविष्य में किसी दूसरी घटना की कारण बनती है | एक बार कारण – एक बार कार्य सबको बनना होता है | समय यानी काल की इस चक्रीय गति को समझने से
मुर्गी पहले आई या अंडा इस उलझन से मुक्ति मिल जाती है | वरना एक रेखीय समय की कल्पना तो अनंतकाल तक गोल-गोल ही घुमाएगी | और बाकी सब तो आपने पढ़ा ही होगा की क्या क्या गोल-गोल घूमता है ?  ब्रह्माण्ड में सब चक्राकार ही घूम रहा है !

By- @ahmabhi

 अगर ये लेख आपको पसंद आया हो तो like करें Facebook पर इस पोस्ट को | आपकी फीडबैक हमारे लिए बहुमूल्य है !

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s